Wednesday, May 20, 2009

अमर सिंह की कांग्रेस को धमकी

खबर के अंदर की खबर पढ़ना भी एक कला है. अब राजनीति से दो-चार होते कई साल बीत चुके हैं तो राजनेताओं की चालों का अंदाजा लगाना भी अब कुछ-कुछ समझ में आने लगा है. amarsinghnishanchiबात है अमर सिंह की. ये पुराने चालबाज हैं. इनके पत्ते सधे होते हैं और अपने काम निकालने के लिये यह हर प्रपंच कर लेते हैं. इसी कला में निपुण होने के चलते यह मुलायम के लिये अपरिहार्य हो गये. भाई अब तो हालात यूं है कि आजम खान ने भी इनसे पंगा लिया तो उनकी चला-चली हो गई.

तो बात है अमर सिंह के कल के बयान की. विश्वास मत के इतने दिनों बाद, चुनाव के भी बाद अब अमर सिंह के अंदर का ईमान जाग गया और उन्होंने खुलासा कर ही डाला की सोमनाथ चटर्जी ने उनसे कांग्रेस समर्थन को कहा था.

क्यों? अब कैसे इन पुरानी बातों को याद कर लिया? क्या दुश्मनी हो गयी ताजी-ताजी सोमनाथ से? बुढऊ की मिट्टी क्यों खराब करने पर तुले हैं?

यह सोमनाथ से दुश्मनी नहीं है, सोमनाथ तो घुन है जो पिस गया क्योंकि अमर सिंह अपनी रोटियां सेंकने के लिये आटा बनाने में लगे हैं.

यह गूढ़ बात है. चेतावनी है अमर सिंह कि कांग्रेस को. अगर तुमने हमें लपेटा तो बर्रों के छत्ते को खोल डालूंगा. राजफाश कर दुंगा. पर्दानशीं रहस्यों को बेपर्दा कर दूंगा.

सोमनाथ को लपेट कर उन्होंने सैम्पल दिखाया है कि असल माल पोटली में बंद है, बोलो तो खोलूं.

अमर सिंह कांग्रेस के लिये नोट बांट रहे थे विश्वास मत के दौरान (आइबिएन ने छुपाते-छुपाते भी दिखा डाली). किसके कहने पर?

इतने राज दफन हैं अमर सिंह के सीने में कि जो खुल जायें तो ऐसी पिक्चर का मसाला तैयार हो जाये जिसे हिट कराने के लिये बड़े भैया अमिताभ की भी जरुरत न रहे.

और आप क्या सोच रहे थे? सोमनाथ को बेफालतू में निपटा दिया अमर सिंह ने? नहीं यह निशान्ची अब सारे गुर सीख चुका है, अब यह प्यादों पर वक्त बर्बाद नहीं करता, सीधे वज़ीर का शिकार करता है.

7 comments:

  1. बेपर्दा कॉग्रेस....!! रूको अभी जय जयकार का शोर थमा नहीं है.

    ReplyDelete
  2. कॉंग्रेस तो है ही ऐसी...
    क्या नही किया है इसने सत्ता मे रहने के लिए...
    अब अगर अमर सिह इसका फ़ायदा उठा रहा है तो बुरा क्या है...

    अरे जनता के प्रतिनिधियों, कुछ तो शर्म करो... एक बार तो देश के लिए काम करो...
    कितना भरोगे आपना पॉकेट... और पॉकेट भेरने के बाद भी कहोगे की मेरे पास तो कार भी नही है... और वो भी बेशेर्मों की तरहा जनता के सामने..

    बाबू ये पब्लिक है सब जानती है.... काठ की हांड़ी बार बार नही चढ़ेगी....

    ReplyDelete
  3. खग ही जाने खग की भाषा!

    ReplyDelete
  4. Hello Blogger Friend,

    Your excellent post has been back-linked in
    http://hinduonline.blogspot.com/
    - a blog for Daily Posts, News, Views Compilation by a Common Hindu
    - Hindu Online.

    Please visit the blog Hindu Online for outstanding posts from a large number of bloogers, sites worth reading out of your precious time and give your valuable suggestions, guidance and comments.

    ReplyDelete
  5. सब एक ही थैली के चट्टे बट्टे हैं..कोई ऐसे गोल और कोई वैसे गोल..छलनी पूछे सूपा से, तुझमें कितने छेद!!

    ReplyDelete
  6. @ Desh Premi : Congress is back :P

    ReplyDelete

इस लेख पर अपनी प्रतिक्रिया जरूर दें.